Header Ads

युवाओं के रोल मॉडल बन गये हैं सुमित रायचंद

Sunit Raychand
रख हौसला वो मन्ज़र भी आएगा,
प्यासे के पास चल के समंदर भी आयेगा;
थक कर ना बैठ ऐ मंज़िल के मुसाफिर,
मंज़िल भी मिलेगी और मिलने का मजा भी आयेगा।v
बॉलीवुड के जाने माने अभिनेता और मॉडल सुमित रायचंद आज के दौर में न सिर्फ फिल्म इंडस्ट्री की दुनिया में धूमकेतु की तरह छा गये हैं बल्कि फैशन की दुनिया के क्षितिज पर भी सूरज की तरह चमके। उनकी ज़िन्दगी संघर्ष, चुनौतियों और कामयाबी का एक ऐसा सफ़रनामा है, जो अदम्य साहस का इतिहास बयां करता है। सुमित रायचंद ने अपने करियर के दौरान कई चुनौतियों का सामना किया और हर मोर्चे पर कामयाबी का परचम लहराया।
बिहार की राजधानी पटना में जन्में सुमित रायचंद ने इंटर की परीक्षा पूरी करने के बाद जिम जाना शुरू किया । इस दौरान जिम के कई सहयोगियों ने उनसे कहा कि आपकी पर्सनालिटी मॉडल के तौर पर शूट करती है। यदि आप चाहें तो मॉडलिंग के क्षेत्र में अपना करियर बना सकते हैं। सुमित रायचंद ने पहले तो इस बात को नजरअंदाज किया लेकिन बार-बार लोगो के जोर देने पर उन्होंने वामा महोत्सव के दौरान रैंप शो किया जिससे उन्हें काफी ख्याति मिली। जॉन अब्राहम , अर्जुन रामपाल और आर्यन वैद को आइडियल मानने वाले सुमित रायंचद को इसके बाद कई विज्ञापनों और वीडियो शूट में काम करने का अवसर मिला।
जिंदगी में कुछ पाना हो तो खुद पर ऐतबार रखना
सोच पक्की और क़दमों में रफ़्तार रखना
कामयाबी मिल जाएगी एक दिन निश्चित ही तुम्हें
बस खुद को आगे बढ़ने के लिए तैयार रखना।
सुमित रायचंद अब फैशन और मॉडलिंग की दुनिया में अपना करियर बनाने का सपना देखने लगे। स्नातक की पढ़ाई के दौरान ग्लैडरक्स की ओर से आयोजित मिस्टर इंडिया में उनका सेलेक्शन हो गया लेकिन यह बात अलग है कि वह शो में बतौर विजेता नही बन सके । सुमित रायचंद का मानना है कि
c कभी गम, तो कभी खुशी है ज़िन्दगी कभी धूप, तो कभी छाँव है ज़िन्दगी . . . . . . .
विधाता ने जो दिया, वो अद्भुत उपहार है ज़िन्दगी
कुदरत ने जो धरती पर बिखेरा वो प्यार है ज़िन्दगी .
अगर जिन्दगी है तो ख्वाब है,ख्वाब है तो मंजिलें हैं,मंजिलें हैं तो रास्ते हैं,
रास्ते हैं तो मुश्किलें हैं,मुश्किलें हैं तो हौसले हैं, हौसले हैं तो विश्वास है, कि जीत हमारी है |
वर्ष 2008 में आंखो में बड़े सपने लिये सुमित रायचंद मायानगरी मुंबई आ गये । सुमित रायचंद की मेहनत जल्द ही रंग लायी और उन्हें फिल्म ना जाने कब से में काम करने का अवसर मिला। फिल्म में सुमित रायचंद के अभिनय को दर्शकों ने बेहद पसंद किया। मुंबई में रहते हुये सुमित रायचंद की मुलाकात मशहूर आर्ट निदेशक श्री राज किशोर चौधरी से हुयी जिन्होंने उनकी प्रतिभा को पहचाना और फिल्म औसम मौसम और अधूरे पन्ने जैसी फिल्मों में काम करने का अवसर दिया।
रूमानी प्रेम कहानी पर आधारित फिल्म अधूरे पन्ने में सुमित रायचंद ने अपने सधे हुये अभिनय से दर्शकों का दिल जीत लिया।
ज़िन्दगी हसीं है ज़िन्दगी से प्यार करो
हो रात तो सुबह का इंतज़ार करो
वो पल भी आएगा जिस पल का इंतज़ार है आपको
बस खुदा पे भरोसा और वक़्त पे ऐतबार करो
वर्ष 2017 सुमित रायचंद के करियर का अहम पड़ाव साबित हुया। सुमित राचयंद को स्वीटी वेडस एनआरआई में यारिंया फेम हिमांश कोहली के साथ काम करने का अवसर मिला। सुमित राचयंद ने फिल्म में अपनी छोटी सी भूमिका के जरिये दर्शकों का दिल जीत लिया। सुमित रायचंद यदि चाहते तो वह मुंबई में रहते हुये अग्रसर हो सकते थे लेकिन वह अपनी जन्म भूमि को कर्मभूमि मानते हुये बिहार के लिये भी कुछ कर गुजरना चाहते थे।
इसी को देखते हुये वह वर्ष 2017 मेंपटना आ गये। लाल बहादुर शास्त्री सम्मान , सावित्री बाई फुले सम्मान , पाटिलपुत्रा महोत्सव , पत्रकार संघ सम्मान , मिस्टर एंड मिस पटना 2017 समेत कई कार्यक्रमों में सम्मानित किये जा चुके सुमित रायचंद का मानना है कि बिहार में प्रतिभाओं की कमी नही है। वह उभरते हुये टैलेंट को प्रमोट करने में लगे हैं। सुमित रायचंद बिहार के फैशन को वैश्विक मंच पर देखना चाहते हैं।
आज बादलों ने फिर साज़िश की
जहाँ मेरा घर था वहीं बारिश की
अगर फलक को जिद है ,बिजलियाँ गिराने की
तो हमें भी ज़िद है ,वहि पर आशियाँ बनाने की
सुमित रायचंद की प्रतिभा को देखते हुये उन्हें हाल ही में शांदिल इशान के निर्देशन में बनी फिल्म ये कैसी आशिकी में उनके रोल मॉडल आर्यन वैद के साथ काम करने का अवसर मिला है। सुमित रायचंद ने फिल्म में पुलिस ऑफिसर का रोबीला किरदार निभाया है। सुमित रायचंद ने शार्ट फिल्म गंगा का पानी में नेगेटिव शेडस लिये हुये सशक्त किरदार निभाया है।
सुमित रायचंद का मानना है कि कामयाबी के सफ़र में मुश्किलें तो आएँगी ही
परेशानियाँ दिखाकर तुमको तो डराएंगी ही,
चलते रहना कि कदम रुकने ना पायें
अरे मंजिल तो मंजिल ही है एक दिन तो आएगी ही।
भोजपुरी फिल्मों के सुप्रसिद्ध फिल्मकार कुमार नीरज की फिल्म दिल हमार माने अभी हाल ही में प्रदर्शित हुयी जिसे दर्शक बेहद पसंद कर रहे हैं। सुमित रायचंद की प्रतिभा को देखते हुये कुमार नीरज ने उन्हें दहेज, पटना से नेपाल और गैंग्स ऑफ हाजीपुर जैसी तीन फिल्मों में काम करने का प्रस्ताव दिया है। सुमित रायचंद का मानना है कि उनके लिये बॉलीवुड फिल्म या भोजपुरी फिल्म में कोई अंतर नही है। यदि फिल्म की कहानी अच्छी है तो वह किसी भी भाषा में फिल्म करने के लिये तैयार हैं। सुमित रायचंद का मानना है कि
जुनूँ है ज़हन में तो हौसले तलाश करो
मिसाले-आबे-रवाँ रास्ते तलाश करो इज़्तराब रगों में बहुत ज़रूरी है
उठो सफ़र के नए सिलसिले तलाश करो
सुमित रायंचद को हाल ही में लेस्ट डांस बिहार सीजन 02 में राजधानी पटना के नृत्य कला मंदिद में आयोजित कार्यक्रम में जज बनने का अवसर मिला है। सुमित रायंचद इस बात को लेकर बेहद भावुक हैं। उन्होंने बताया कि फैशन की दुनिया में उन्होंने अपने करियर की शुरूआत भारतीय नृत्य कला मंदिर के मंच से ही की थी । सुमित इन दिनों बिहार के नये टैलेंट को प्रमोट करने में लगे हुये हैं। युवा उन्हें रोल मॉडल मानते हैं। सुमित रायचंद उन्हें हर कदम सपोर्ट करते हैं। सुमित रायंचंद युवाओं को मोटिभेट करते हुये कहते हैं
टूटने लगे हौसले तो ये याद रखना,
बिना मेहनत के तख्तो-ताज नहीं मिलते,
ढूंढ़ लेते हैं अंधेरों में मंजिल अपनी,
क्योंकि जुगनू कभी रौशनी के मोहताज़ नहीं होते…

No comments

Powered by Blogger.